HimachalPradesh

सुधीर शर्मा ने पिछले तीन सालों में बनाई करोंड़ों की बेनामी संपत्तियां : मुख्यमंत्री

धर्मशाला, 23 मई (Udaipur Kiran) । चुनावी प्रचार को धार देने के लिए धर्मशाला पंहुचे मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बागी विधायक एवं भाजपा प्रत्याशी सुधीर शर्मा पर जमकर निशाना साधा है। धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के पासू में जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने सुधीर शर्मा पर पिछले कुछ समय में ही करोड़ों की बेनामी संपत्तियां खरीदने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सुधीर शर्मा ने पिछले तीन सालों के दौरान 10 करोड़ में कई सम्पत्तियां अपने ड्राइवर के नाम पर खरीदी हैं। यही नही उन्होंने चंडीगढ़, शिमला और दुबई तक संपत्तियां बनाई हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सभी बेनामी संपत्तियों की जांच करवाई जाएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि नोट के दम पर पूर्व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के साथ मिलकर यह खेल खेला जा रहा है।

मुख्यमंत्री कहा कि वह सम्पत्तियां खरीदने में इतने व्यस्त रहे कि विधायक बनने के बाद पिछले 14 माह में क्षेत्र की जनता से मिलना तो दूर उनके फोन तक नही उठाए। उन्होंने एक बार फिर से बागी प्रकरण पर घेरते हुए कहा कि करोड़ों में बिकने वाले सरगना पिछले 14 महीने ना विधानसभा में आते थे और न ही क्षेत्र के लोगों से मिलते थे। उन्होंने अपने ड्राइवर नेक राम पुत्र गीता राम के नाम पर करोड़ों की सम्पत्तियां खरीद कर सिर्फ प्रॉपर्टी डीलर का ही काम किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आलम यह रहा कि इस दौरान उनके घर का गेट लोगों के लिए नही खुला। यही नही लोगों के शादी के कार्ड तक लेने से इन्कार कर दिया क्योंकि उनका ध्यान जनता की सेवा में नहीं संपत्तियां खरीदने में था। मुख्यमंत्री ने सवाल उठाया कि सुधीर शर्मा ने ऐसा क्या किया कि साल में इतनी संपत्तियां खरीद ली। उन्होंने कहा कि उसके बाद धर्मशाला में करोड़ों का अपना महल बनाया और धर्मशाला क्षेत्र में संपत्तियों का सौदा करते गए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुर्ता पजामा पहनकर लोगों को उठाकर संपत्तियां खरीदी गई। उन्होंने कहा कि लोग इतने तंग हो गए कि एक जमीन मालिक उनके पास आया और कहा कि विधायक हमारी संपत्ति खरीद लेंगे। उन्होंने कहा कि इस दौरान अपनी संपत्ति को 10 गुना विधायक बनाते हैं और और जनता की नजर में यह दर्शाने की कोशिश करते हैं कि हम सेवक हैं जबकि किसानों की संपत्तियां खरीद कर आप भक्षक कहलाते हैं।

उन्होंने कहा कि स्थानीय विधायक संपत्तियां बनाने में इतने व्यस्त रहे कि धर्मशाला के विकास को लेकर उन्होंने कभी कोई सवाल नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि धर्मशाला विधानसभा में लड़ाई पार्टी आधारित नहीं बल्कि सच और झूठ की लड़ाई है, धर्म की लड़ाई है। उन्होंने ईमानदार भाजपा कार्यकर्ताओं से भी आग्रह किया कि ऐसे बिके हुए नेता को सबक सिखाएं।

आपदा में केंद्र सरकार ने कोई सहायता नहीं की

मुख्यमंत्री ने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश में आई भयानक आपदा के बावजूद केंद्र की मोदी सरकार ने हिमाचल सरकार की कोई सहायता नही की। बार बार आग्रह करने के बावजूद न तो वित्तीय पैकेज दिया गया और न ही भाजपा के नेताओं ने आम लोगों की सहायता की। वहीं प्रदेश में महिलाओं के लिए 1500 देने के नाम पर भी भाजपा ने राजनीति करते हुए उसे बंद करवाने की नाकाम कोशिश की। हालांकि मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार महिलाओं को अप्रैल और मई महीने के पैसे एक साथ आने वाले 10 दिनों के बाद मिलने शुरू हो जाएंगे।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर जनसभाएं कर उपचुनाव में कांगे्रस प्रत्याशी देवेंद्र जग्गी के लिए वोट मांगे।

(Udaipur Kiran) /सतेंद्र

Most Popular

To Top