RAJASTHAN

राजस्थान में गर्मी से एक और मौत, बीकानेर-बाड़मेर के बाजारों में लगाए कूलर

फाइल।

जयपुर, 25 मई (Udaipur Kiran) । आकाशीय मंडल के प्रधान ग्रह सूर्यदेव शनिवार सुबह 3.17 बजे रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश कर गए। इसके साथ ही तेज गर्मी के लिए खास माने जाने वाले नौतपा की शुरुआत भी हो गई है। सूर्यदेव की तपिश बीते कई साल के मुकाबले इस बार ज्यादा रहेगी। राजस्थान में बढ़ती गर्मी जानलेवा हो गई है। हीटवेव से एक और मौत हुई है। इसी के साथ लू से जान गंवाने वालों की संख्या अब 15 हो गई है। नौतपा की शुरुआत के साथ ही राजस्थान के 12 जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

गर्मी से बचाव के लिए बीकानेर और बाड़मेर के बाजारों में टेंट के साथ कूलर लगाए गए हैं। वहीं पाली के मंदिर और गुरुद्वारे में भी एसी लगाया गया है। गर्मी को देखते हुए सरकार ने भी प्रदेश के मुख्य बाजारों और चौराहों पर छाया-पानी के आदेश दिए हैं। बाड़मेर में पारा 48 डिग्री के पार हो चुका है। यहां के शहर के स्टेशन रोड पर भामाशाह तनसिंह चौहान जन सेवा समिति की ओर गर्मी से बचाव के लिए टेंट और कूलर लगाए गए हैं। इसी तरह कलिंगा होटल और कोतवाली एरिया में भी टेंट और कूलर लगाए गए हैं। इसके साथ ही राहगीरों को ग्लूकोज पिलाया जा रहा है। बीकानेर के केईएम बाजार में नगर निगम की ओर से बाजार में टेंट लगाया गया है ताकि राहगीराें को कोई परेशानी न आए।

राजस्थान में भीषण गर्मी से बचाव के लिए अब सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर छाया-पानी की व्यवस्था करने के लिए स्थानीय निकायों को आदेश दिए हैं। इस काम के लिए सरकार ने भामाशाहों से भी मदद लेने के लिए कहा है। सरकार ने बस स्टैंड, मुख्य ट्रैफिक सिग्नल, पर्यटन स्थल और ऐसे सार्वजनिक स्थान जहां लोगों की संख्या ज्यादा रहती है। वहां इस तरह की व्यवस्था प्राथमिकता से करने के लिए कहा है। आपदा राहत प्रबंधन विभाग ने प्रदेश के तमाम पर्यटन स्थल, धार्मिक स्थलों पर आने वाले लोगों के लिए पीने का ठंडा पानी और छाया के लिए ग्रीन शेड या अन्य व्यवस्था करने के लिए कहा है। वहीं नगरीय निकायों, यूआईटी, विकास प्राधिकरण को शहरों के प्रमुख चौराहों, बस स्टैंड और ऐसी जगह जहां लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इंतजार करते हैं या जहां लोगों की भीड़ जुटती है वहां छाया-पानी की व्यवस्था खुद के स्तर पर या भामाशाहों के जरिए करवाने के लिए कहा है।

पूरा राजस्थान हीटवेव यानी लू की चपेट में है। बीते तीन दिन में हीटवेव से 15 लोगों की मौत हो चुकी है। हीटवेव के कारण गुरुवार को छह और शुक्रवार को आठ लोगों की जान गई थी। इसके अलावा एक मौत शनिवार सुबह हुई है। लू की चपेट में आए इस युवक को शुक्रवार को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। दूसरी ओर, सरकार के आंकड़ों में गर्मी से अब तक कुल छह मौत हुई है। शुक्रवार को सर्वाधिक तापमान 49 डिग्री सेल्सियस जोधपुर के पास फलोदी में दर्ज हुआ। फलोदी में कल दिन में तेज तपन रहने के साथ हीटवेव चली। यहां रात में भी गर्मी से लोग बेहाल रहे। न्यूनतम तापमान भी 34-35 डिग्री सेल्सियस के आसपास दर्ज हुआ। इससे एक दिन पहले बाड़मेर में तापमान 48.8 डिग्री सेल्सियस मापा गया था।

राज्य में कल सीजन का सबसे गर्म दिन रहा। फलोदी सहित छह शहरों में कल दिन का अधिकतम तापमान 47 डिग्री सेल्सियस से ऊपर चला गया। फलोदी के बाद दूसरा सबसे गर्म शहर जैसलमेर रहा, जहां का तापमान 48.3 डिग्री सेल्सियस रहा। बाड़मेर में 48.2, जोधपुर में 47.6, जालोर में 47.7 और डूंगरपुर में 47.1 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। दिन में भीषण तपिश के बाद शुक्रवार देर रात गंगानगर-हनुमानगढ़ के एरिया में तेज धूलभरी आंधी चली। इससे लोगों को गर्मी से राहत मिली। यहां आंधी चलने से तापमान में बड़ी गिरावट हुई। हनुमानगढ़ में कल दिन का अधिकतम तापमान 43.8, जबकि गंगानगर में 46.6 डिग्री सेल्सियस मापा गया।

(Udaipur Kiran) /रोहित/संदीप

Most Popular

To Top