HEADLINES

एनआईए ने गौतम नवलखा की सुरक्षा पर एक करोड़ 64 लाख रुपये बकाया होने का दावा किया

सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली, 07 मार्च (Udaipur Kiran) । एनआईए ने भीमा कोरेगांव मामले के नजरबंद आरोपित गौतम नवलखा की सुरक्षा पर एक करोड़ 64 लाख रुपये का बकाया होने का दावा किया। एनआईए के इस दावे को गौतम नवलखा ने फिरौती करार दिया है।

सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई के दौरान एनआईए की ओर से पेश एएसजी एसवी राजू ने कहा कि गौतम नवलखा की नजरबंदी के दौरान सुरक्षा पर एनआईए का एक करोड़ 64 लाख रुपये बकाया है। राजू ने कहा कि गौतम नवलखा ने सुरक्षा पर होने वाले खर्च के मद में केवल दस लाख रुपये ही अदा किए हैं। उन्हें कुछ रकम जमा करना चाहिए।

इस पर गौतम नवलखा की ओर से पेश वरिष्ठ वकील नित्या रामकृष्णन ने एनआईए की ओर से पेश किए गए दावे का विरोध करते हुए कहा कि ये रकम सही नहीं है। एनआईए हिरासत में रखने के लिए एक करोड़ का दावा नहीं कर सकती है। तब राजू ने कहा कि आम नागरिकों को नजरबंद नहीं रखा जाता है। उसके बाद जस्टिस एमएम सुंदरेश की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि इस मामले पर विस्तृत सुनवाई की जरूरत है। कोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई अप्रैल में करने का आदेश दिया।

सुप्रीम कोर्ट ने 10 नवंबर, 2022 को गौतम नवलखा को घर में नजरबंद करने का आदेश दिया था। 8 अप्रैल, 2020 को सुप्रीम कोर्ट ने गौतम नवलखा और आनंद तेलतुंबडे को सरेंडर करने का आदेश दिया था। 1 जनवरी, 2018 को भीमा-कोरेगांव की दो सौवीं सालगिरह पर हुए कार्यक्रम में हिंसा हुई थी। उसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हुए थे। इस मामले में पुलिस ने 162 लोगों के खिलाफ 58 केस दर्ज किए हैं।

(Udaipur Kiran) /संजय

Most Popular

To Top