Delhi

द्वारका के 100 से ज्यादा अपार्टमेंट्स के पास नहीं है फायर एनओसी

नई दिल्ली, 9 मार्च (Udaipur Kiran) । द्वारका इलाके में बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां 100 से ज्यादा ऐसे अपार्टमेंट्स पाये गए हैं, जिनके पास फायर एनओसी तक नहीं है। इसके बाद दिल्ली फायर सर्विस ने नोटिस भेजने शुरू कर दिए हैं।

दरअसल, द्वारका इलाके में घर में आग लगने की एक घटना इसी साल फरवरी में सामने आई थी। घटना में 83 साल की बुजुर्ग महिला व उनकी पोती ने जान बचाने के लिए अपार्टमेंट की चौथी मंजिल से छलांग लगा दी थी। इस घटना में बुजुर्ग महिला की मौत हो गई।

इस घटना के बाद दमकल विभाग ने एक अभियान चला कर इस बात को जानने की शुरुआत की कि कितने अपार्टमेंट है जहां या तो फायर एनओसी नहीं है या फिर एनओसी एक्सपायर हो चुकी है। जिस अपार्टमेंट में आग लगने की घटना हुई थी, वहां आग बुझाने के सुरक्षा उपकरण सही तरीके से काम नहीं कर रहे थे।

दमकल विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिन अपार्टमेंट्स की फायर एनओसी समाप्त हो चुकी है, उसमें सेक्टर 1,2, 4,5, 6, 7, 9 से 12, 15 से 17, 18, 19, 20,21, 22, 23, द्वारका मोड़ स्थित अपार्टमेंट शामिल है। दिल्ली फायर सर्विसेज की तरफ से इन सभी अपार्टमेंट के आरडब्ल्यूए को नोटिस भेजा जा चुका है। दमकल विभाग का कहना है कि जिन-जिन अपार्टमेंट में इस तरह की लापरवाही बरती गई है, उन्हें जल्द ही नोटिस भेजा जाएगा।

दमकल विभाग के अनुसार सबसे ज्यादा आग लगने की घटना या तो शॉर्ट सर्किट से होती है, (जिसमें बिजली के इक्विपमेंट के रखरखाव की लापरवाही होती है) या फिर गैस लीकेज की वजह से ऐसी घटनाएं सामने आती हैं। दिल्ली दमकल विभाग के निदेशक अतुल गर्ग का कहना है कि जो भी बिल्डिंग 15 मीटर से अधिक ऊंची है, उसे फायर की एनओसी लेने की जरूरत है। यह एनओसी पांच साल के लिए मान्य रहती है और इसे देने से पहले बिल्डिंग प्लान और अन्य दस्तावेज जमा कराए जाते हैं और अपार्टमेंट का निरीक्षण भी किया जाता है। आग लगने की घटनाओं से जुड़ी सबसे अधिक कॉल रिहायशी इलाकों से ही आती है। इसलिए इन इलाकों में सुरक्षा मानकों को पूरा करना बेहद जरूरी है।

दमकल विभाग के अनुसार पिछले साल आग लगने की कुल 15,610 कॉल मिलीं। इनमें से करीब पांच हजार रिहायशी इलाके से आई थीं। इन घटनाओं में 59 लोगों ने अपनी जान गंवाईं। दमकल विभाग की तरफ से इन आग की घटनाओं के दौरान करीब 700 लोगों को दमकल कर्मियों ने रेस्क्यू किया।

(Udaipur Kiran) / अश्वनी

Most Popular

To Top