Bihar

भारत विश्व में शिक्षा का केंद्र पूर्व से ही रहा है : राज्यपाल

गोपाल नारायण विश्वविद्यालय में राज्यपाल आर लेकर और उपमुख्यमंत्री विजय कुमार सिंह के साथ गोपाल नारायण सिंह।
गोपाल नारायण विश्वविद्यालय में राज्यपाल आर लेकर और उपमुख्यमंत्री विजय कुमार सिंह के साथ गोपाल नारायण सिंह।

पटना/रोहतास ,11 मार्च (Udaipur Kiran) । बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर ने सोमवार को गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय में मुख्य अतिथि के तौर पर अपने संबोधन में कहा कि भारत विश्व में शिक्षा का केंद्र पूर्व से ही रहा है।

राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर ने कहा कि विश्व में नालंदा विश्व विद्यालय,तक्ष शीला समेत कई शिक्षण केंद्र रहे है। ऋग्वेद विश्व की प्राचीन लिखित वेद में शिक्षक और शिक्षिका को आचार्य और आचार्या के रूप में उद्रित है।

राज्यपाल ने कहा कि अपने देश में ब्रिटिश द्वारा 1896 में पहली सर्वे हुआ था। उस समय संयुक्त बंगाल और बिहार में शैक्षिक दर 90 प्रतिशत रही थी, जिसमे महिला और पुरुष दोनों का शैक्षिक दर समान थी। हमारी संस्कृति प्रारंभ से ही महिला उत्थान और उत्थान में महिलाओ की महत्वपूर्ण भूमिका से परिपूर्ण रही है।

मौके पर उपमुख्यमंत्री विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि श्रृष्टि के निर्माण,श्रृष्टि को ज्ञान देने और श्रृष्टि की सुरक्षा में भी देवी (महिला) का ही योगदान है। हमारी संस्कृति और धर्म प्रारंभ काल से ही महिलाओं को देवी स्वरूपा के रूप में सम्मान दिया है। स्वामी विवेकानंद ने ही कहा था कि 21 सदी में विश्व का नेतृत्व भारत करेगा। आज प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ऐसा हो रहा है । किस गुलाम मानसिकता के कारण हम गुलाम हुए थे। नारी वंदन और वसुधैव कुटुंबकम् की भावना ही सृष्टि में सम्मान दिलाता है।इस देश से ही विश्व का मार्गदर्शन पूर्व में भी हुआ है और भविष्य में होगा।

(Udaipur Kiran) /गोविन्द

/चंदा

Most Popular

To Top