RAJASTHAN

मानसून में आवासन मंडल लगाएगा एक लाख पौधे

मानसून में आवासन मंडल लगाएगा एक लाख पौधे

जयपुर, 23 मई (Udaipur Kiran) । इस साल मानसून के दौरान राजस्थान आवासन मंडल शहर में एक लाख से अधिक पौधे लगाएगा। इस सम्बंध में गुरुवार को आयोजित बैठक में दिशा-निर्देश दिए गए। आवासन मण्डल अध्यक्ष टी रविकांत ने गुरुवार को मंडल के बोर्ड कक्ष में विभागीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली। बैठक में पिछले महिनों की बैठक में दिए गए निर्देशों और सुझावों पर अब तक हुए कामों का फीडबैक लिया गया।

मण्डल अध्यक्ष ने अधिकारियों से कहा कि आवासन मंडल को आमजन का मंडल कहा जाता है, ऐसे में आमजन के सभी कार्यों को जल्द से जल्द पूरा कर उन्हें राहत पहुंचाने के लिए अहम कदम उठाएं। आज का युग तकनीकी युग है, ऐसे में मंडल को भी तकनीकों का उपयोग कर कार्यों को जल्द और समय पर पूरा करना चाहिए। चाहे योजनाओं के दौरान दिए जाने वाले मुआवजे के रूप में पट्टे हों या ई-नीलामी हो, हर तरह के कार्य के लिए मंडल के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को तकनीक का ज्यादा से ज्यादा उपयोग कर आमजन की आवश्यकताओं को पूरा करना चाहिए। आवासन अध्यक्ष ने नगरीय विकास विभाग के एकीकृत पोर्टल, समेत कई अहम मुद्दों को लेकर विभागीय अधिकारियों से फीडबैक लिया। इस दौरान उन्होंने महत्वपूर्ण विषयों पर विस्तृत चर्चा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। बैठक में आयुक्त इंद्रजीत सिंह, सचिव डा. अनिल कुमार, मुख्य नगर नियोजक अनिल माथुर ,मुख्य अभियंता एचक्यू मनोज गुप्ता, मुख्य अभियंता प्रथम अमित अग्रवाल, अतिरिक्त मुख्य अभियंता प्रतीक श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

सजग एप से ‘सजग’ रहेगा मंडल

अध्यक्ष ने सजग एप से कार्यों की प्रगति और उसके अनुसार किए जा रहे भुगतान के बारे में भी फीडबैक लिया। उन्होंने कहा कि सजग एप के माध्यम से आवासन मंडल को भी सजग रहना होगा, ताकि किसी भी तरह की त्रुटि से बचा जा सके।

पर्यावरण संरक्षण के लिए 1 लाख पेड़़ लगाने का टारगेट

अध्यक्ष टी रविकांत ने विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों से कहा कि पेड़ लगाएंगे, तभी हम भविष्य को सुरक्षित बना पाएंगे, इस सोच के साथ हाउसिंग बोर्ड को भी आगे बढ़ना होगा। मुख्य सचिव के निर्देशानुसार हाउसिंग बोर्ड भी एक लाख से ज्यादा पेड़ लगाकर पर्यावरण संरक्षण के लिए अपना अहम योगदान दे। आयुक्त इंद्रजीत सिंह ने कहा कि हैंड ओवर प्रॉपर्टी में भी पेड़ लगाए जाएं ताकि ज्यादा से ज्यादा हरियाली लाई जा सके और पर्यावरण संरक्षण किया जा सके।

(Udaipur Kiran) / राजेश/संदीप

Most Popular

To Top