Haryana

गुरुग्राम: आरडब्ल्यूए के लिए मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाएं नहीं चढ़ी सिरे: संदीप फोगाट

फोटो नंबर-03: सांकेतिक तस्वीर।

-हर छह माह में आरडब्ल्यूएज के साथ करने थे कार्यक्रम, वे भी नहीं हुए

-गुरुग्राम में खेडक़ीदौला टोल हटाने की घोषणा के बाद भी कुछ नहीं हुआ

गुरुग्राम, 7 मार्च (Udaipur Kiran) । गुडग़ांव रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन फेडरेशन ने द्वारका एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन को लेकर प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही फेडरेशन द्वारा मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विधायकों और स्थानीय प्रशासन के किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं होने की बात कही है। यह निर्णय इसलिए लिया गया है कि सरकार ने आरडब्ल्यूए की मांगों को पूरा नहीं किया। हर छह माह में आरडब्ल्यूएज के साथ बैठक की बात कहकर मुख्यमंत्री भूल गए।

गुडग़ांव रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन फेडरेशन के सदस्य संदीप फोगाट, राजेश वर्मा, अभय जैन एडवोकेट, कपिल भारद्वाज, सुरेंद्र अरोड़ा, महेंद्रपाल ने कहा कि 29 अप्रैल 2022 को गुरुग्राम में रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशनों के लिए सेवोकॉन नामक एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था, जिसमें मुख्यमंत्री मनोहर लाल मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में आरडब्ल्यूए के लिए कई घोषणाएं कीं। उन सभी घोषणाओं को 6 महीने के भीतर पूरा करने का वादा किया, लेकिन उन घोषणाओं को दो साल बीत जाने के बाद भी पूरा नहीं किया गया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने यह भी कहा था कि वे हर 6 महीने में इस तरह का कार्यकम आयोजित करेंगे, लेकिन आज तक पूरे प्रदेश में ऐसा कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं किया गया। प्रदेशभर में हजारों आरडब्ल्यूए हैं, जिन्हें सरकारी अधिकारियों और बिल्डरों द्वारा परेशान किया जा रहा है। सरकार ने रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशनों की कोई मांग पूरी नहीं की। ना ही किसी समस्या का समाधान किया।

उन्होंने यह भी कहा कि वर्ष 2007 से लेकर आज तक 17 वर्षों से गुरुग्राम के खेडक़ी दौला टोल पर लोगों की गाढ़ी कमाई की लूट जारी है। पिछले वर्ष टोल वसूली का समझौता भी समाप्त हो गया, फिर भी टोल नहीं हटाया गया है। कई बार मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने टोल शिफ्ट करने की घोषणा की, लेकिन धरातल पर कुछ नहीं हुआ। इसी तरह से फरीदाबाद रोड पर टोल भी लोगों के पैसे लूटने का जरिया है। बंधवाड़ी कूड़ा डंपिंग साइट भी गुरुग्राम के निवासियों के लिए प्रमुख स्वास्थ्य समस्या है। सिविल अस्पताल गुरुग्राम का निर्माण भी कई वर्षों से लम्बित है। गुरुग्राम का बस अड्डा कई साल पहले कंडम घोषित हो चुका है। नए बस अड्डे के निर्माण के लिए अब तक कोई काम नहीं हुआ। इन सभी मुद्दों और स्थितियों को ध्यान में रखते हुए गुडग़ांव रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन फेडरेशन ने सरकारी कार्यक्रमों का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है।

(Udaipur Kiran) /ईश्वर

Most Popular

To Top