उदयपुर. महाराणा प्रताप लॉ कॉलेज को तय सीट से ज्यादा सीट आवंटित करने के मामले की जांच अब तीन सदस्यीय कमेटी करेगी। मोहनलाल सुखाडिय़ा विवि के कुलपति प्रो अमेरिका सिंह ने इसे लेकर तीन सदस्यीय कमेटी भौतिकी विभाग की प्रो एन लक्ष्मी, विवि के वाणिज्य व प्रबन्धन अध्ययन महाविद्यालय के लेखा व सांख्यिकी विभागाध्यक्ष शूरवीरसिंह भाणावत व सेवानिवृत्त आरएएस अधिकारी केवी वाजपेयी को जांच सौंपी है।

——

ये है मामला जानकारी के अनुसार महाराणा प्रताप विधि महाविद्यालय चित्तौडगढ़ जो मोहनलाल सुखाडिय़ा विवि से विधि पाठ्यक्रम के लिए सम्बद्ध था। सम्बद्धता जारी करने में 120 के स्थान पर 18 सीट के आवंटन का सम्बद्धता अभिवृद्धि पत्र तत्कालीन उप कुल सचिव मुकेश कुमार बारबर ने जारी किया था। वर्ष 2017-18 में बीसीआई से मान्यता नहीं मिलने पर विवि द्वारा उक्त महाविद्यालय को 180 सीट आवंटित की गई।

———

बारबर को लिखा पत्र कुलसचिव ने गत 8 अक्टूबर को बारबर, उप कुलसचिव गोपनीय शाखा को पत्र लिखा था कि महाराणा प्रताप लॉ कॉलेज चित्तौडगढ़़ को बार कौंसिल ऑफ इंडिया से एलएलबी तृतीय वर्ष प्रोग्राम में 120 सीटों का आवंटन किया गया, लेकिन विवि की ओर से 19 नवम्बर 19 को 180 सीटें एलएलबी की आवंटित कर दी गई। महाविद्यालय को 180 सीटें आवंटित किए जाने से संबंधित आदेश उनके (बारबर) के हस्ताक्षर से जारी किया गया है। इस पर बारबर से पूछा गया कि सम्बद्धता विस्तारण के दौरान ज्यादा सीट आवंटित करने के क्या कारण रहे। कुलसचिव ने बारबर से स्पष्टीकरण मांगा है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *