कानोड़ (उदयपुर). करीब 14 हजार की आबादी वाले कानोड़ तहसील मुख्यालय का पटवार भवन जीर्ण-शीर्ण हालात में है। भवन के ऐसे जर्जर हाल में भी यहां पटवारी बैठने को विवश है, लेकिन कोई सुध नहीं ले रहा। जबकि कईबार इसकी मरम्मत आदि के प्रस्ताव बनाकर भेजे गए हैं। ऐसे में पटवारी को भय रहता है कि कहीं भवन गिर न जाए।
कबूतरों ने डाला डेरा: भवन के हालत ऐसे खराब हो चुके हैं कि कबूतरों ने इस भवन को अपना आशियाना बना लिया है। बरसात के समय में यह भवन पूरा टपकता है, रिकॉर्ड रखना पटवारी के लिए मुसीबत बन जाता है, ऐसे में आवश्यक रिकार्ड को या तो घर ले जाना पड़ता या फिर तहसील कार्यालय में रखना पड़ता है। भवन के पीछे शौचालय बना हुआ है जहां से हर समय दुर्गन्ध पटवार भवन में आती है। जबकि कईबार सरकार से लेकर सबंधित विभाग को अवगत करवाया लेकिन नवीनीकरण तो दूर मरम्मत कार्य भी नहीं हुआ।
पटवारी के रहने का भवन भी खस्ताहाल
कागजों में पटवार भवन के साथ कर्मचारी के रहने के लिए सुविधा दर्शाना पदस्थ पटवारी को आर्थिक नुकसान दे रहा है। कार्यालय भवन व क्वार्टर जर्जर होने से पदस्थ पटवारी को अन्य जगह किराए का मकान लेकर रहना पड़ रहा है। जिसका किराया स्वयं द्वारा वहन किया जा रहा है।
फिर प्रस्ताव भेजेंगे…
भवन के नवीनीकरण को लेकर तहसीलदार लक्ष्मीनारायण राठौड़ ने बताया कि वह जल्द ही सरकार का प्रस्ताव बनाकर भेजेंगे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *